रोग प्रतिरोधक क्षमता क्या है?।immunity meaning in hindi

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय (immunity meaning in hindi)

immunity-meaning-in-hindi
immunity meaning in hindi

रोग प्रतिरोधक क्षमता क्या है?।रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण क्या है और इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं?

रोग प्रतिरोधक क्षमता वायरस से लड़ने की क्षमता है। ये वायरस हो सकते हैं, जैसे कि बैक्टीरिया, कवक या कोई अन्य हानिकारक जीवजंतू हो शकते है।यदि आपकी प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली मजबूत है

तो यह न केवल आपको सर्दी और खांसी से बचाता है, बल्कि यह आपको हेपेटाइटिस, फेफड़ों के संक्रमण, गुर्दे के संक्रमण सहित कई बीमारियों से भी बचाता है।

हमारे आसपास कई रोग फैलाने वाले जीव हैं। आपको इसका एहसास भी नहीं है और हानिकारक तत्व आपके भोजन, पीने के पानी और श्वास के साथ शरीर में जाते हैं।

लेकिन फिर भी, हर कोई बीमार नहीं होता। क्योंकि जिनके पास मजबूत प्रतिरोधक क्षमता है वो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली इस बाहरी संक्रमण रोखती है।

एक रक्त जांच से पता चलता है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कितनी मजबूत है। साथ ही, आपका शरीर आपको कई अलग-अलग संकेत देना शुरू कर देता है। तो हम जान सकते हैं कि हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली कैसी है।

एक सवाल जो आपके दिमाग में आ रहा होगा, कि रोग प्रतिरोधक क्षमता इतनी कमजोर क्यों होती है?

तो इसके पीछे का कारण इस प्रकार है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण क्या है? (Causes of low immunity power in Hindi)

  • शरीर की अतिरिक्त चर्बी।
  • वजन कम है।
  • यदि आप धूम्रपान करते हैं, शराब पीते हैं।
  • लंबे समय तक तनाव में रहते है।
  • अगर आप बहुत ज्यादा फास्ट फूड, जंक फूड आदि का सेवन करते हैं।
  • अगर आप बहुत देर तक सोते हैं या जरूरत से कम सोते हैं।
  • हो सकता है कि शरीर को उचित पोषण न मिल रहा हो।
  • पेनकिलर, अँटीबायोटिक्स आदि का लंबे समय तक उपयोग।
  • अगर व्यायाम नहीं कर रहे हैं।
  • यदि प्रदूषित वातावरण में लंबे समय तक रहना है।
  • यदि गर्भवती महिला का आहार अच्छा नहीं है या वह कुपोषण से पीड़ित है, तो नवजात की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है।
  • कम पानी पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है, क्योंकि पर्याप्त पानी नहीं पीने से मूत्र के माध्यम से शरीर से दूषित पदार्थ निकालना मुश्किल हो जाता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी किसी के लिए भी घातक हो सकती है?

कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्ति के जल्दी बीमार होने की संभावना अधिक होती है।

कमज़ोर रोग प्रतिरोधक क्षमता के जोखिम क्या हैं? (Low immunity power complications in hindi)

संक्रमण: – संक्रमण कम रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए एक प्रमुख कारण है।

एक व्यक्ति जिसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है। उस व्यक्ति को किसी भी प्रकार का संक्रमण होने की अधिक संभावना होती है।

ऑटोइम्यून डिसऑर्डर होने पर: – कम प्रतिरोधक क्षमता का एक और जोखिम ऑटोइम्यून डिसऑर्डर है।

जब कोई बीमारी शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं को प्रभावित करती है। इसे ऑटोइम्यून डिसऑर्डर कहा जाता है।

शरीर के अंगों का बिगड़ना: – यदि प्रतिरोधक क्षमता को बढाया नहीं, तो यह शरीर के अन्य भागों जैसे की हृदय, फेफड़े, गुर्दे आदि को नुकसान पोहचाता है।
रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी से बॉडी को नुकसान होता है।

शरीर और सिर का धीमा विकास: – हमने अक्सर ऐसे लोगों को देखा है जिनके मस्तिष्क का विकास ठीक से नहीं हुआ है।
यह मुख्य रूप से कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण है।

कैंसर का खतरा: – कम रोग प्रतिरोधक क्षमता गंभीर बीमारी का कारण बन सकती है।
कम रोग प्रतिरोधक क्षमता कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है।

immunity meaning in hindi

immunity meaning in hindi
immunity meaning in hindi

इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं? (How to increase immunity power in Hindi)/immunity meaning in hindi

कम रोग प्रतिरोधक क्षमता घातक हो सकती है।
फिर भी, राहत देणे वाली बात यह है की,
यदि आप नीचे दियी गयी बातो का ध्यान देते है तो आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा या सुधार सकते हैं।

पौष्टिक आहार लेना: – जैसा कि ऊपर बताया गया है की,
आपको अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देने के लिए पौष्टिक भोजन खाने की आवश्यकता है। जो विटामिन, कैल्शियम, आयरन आदि से भरपूर होगा।

रोज व्यायाम करें: – कम रोग प्रतिरोधक क्षमता शारीरिक कमजोरी का कारण है। इसे दूर करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना फायदेमंद है।
यदि कोई व्यक्ति प्रतिदिन व्यायाम करता है, तो वह रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार कर सकता है।

पर्याप्त नींद लेना: – पर्याप्त नींद नहीं लेने से कुछ स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।
इसमें खराब रोग प्रतिरोधक क्षमता भी शामिल है, जिससे अन्य गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

एक व्यक्ति को अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देने के लिए पर्याप्त नींद (6-7 घंटे) की आवश्यकता होती है।

दवाओं का ज्यादा उपयोग न करें: – दवाओं के उपयोग के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है।
आपको इनका ज्यादा मात्रा मे सेवन नहीं करना चाहिए। ताकि आपकी सेहत न बिगड़े।

वजन कम करे: – अधिक वजन होने से कम रोग प्रतिरोधक क्षमता सहित कई बीमारियां हो सकती हैं।
इसलिए वजन संतुलित रखने की कोशिश करें ताकि आपको कोई बीमारी न हो।

ये रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देने के लिए घरेलू उपचार हैं

Leave a comment